Se ha denunciado esta presentación.
Se está descargando tu SlideShare. ×

Zindagi ki mithaas

Anuncio
Anuncio
Anuncio
Anuncio
Anuncio
Anuncio
Anuncio
Anuncio
Anuncio
Anuncio
Anuncio
Anuncio
Cargando en…3
×

Eche un vistazo a continuación

1 de 20 Anuncio

Más Contenido Relacionado

Similares a Zindagi ki mithaas (15)

Anuncio

Zindagi ki mithaas

  1. 1. पकती उम्र की मिठासअगर आप इस प्रस्तुतत को पूरा पूरा नह ीं देखते, तो पपछल ज ींदगी की आप ानें, आपके ीवन का आ का ददन कह ीं बेकार न माना ाए! पूर प्रस्तुतत देख कर सोचें, समझें और ककसी से या स्वयमेव ऐसे चचाा करें, कक ये आपके के मन में पैठ कर ाय ! (अींग्रे ी से मौललक रूपाींतरण ) सींगीत: अनेस्तो कोताा र की रचना: “एटनाल लव “SKV
  2. 2. शायद आपने कभी गौर ककया हो कक मसर्फ बचपन िें ही बड़ा होते जाना अच्छा लगता है.. दस वर्फ की उम्र तक तो जल्दी जल्दी बढ़ने की ललक रहती है.. साल नहीीं, ददन व िहीनों िें भी गगनती करते हैं कक ककतने बड़े हो गए... SKV
  3. 3. ककसी के पूछने पर खुशी से बताते... उम्र साढ़े चार साल से ज्यादा हो गई है, अगले िहीने पूरे पाींच ...... SKV
  4. 4. और जब तरुणाई िें कदि रखे तो जैसे उम्र को पींख लग जाते हैं. अब कोई रोक नहीीं सकता..वो जोश.. दहम्ित..कु छ कर गुजरने को बेताब... SKV
  5. 5. ककसी के पूछने पर , होभले 14 या 15 के ही, कहेंगे, 16 के हो गये हैं ! ! और जीवन का सबसे यादगार तो वो ददन जब आप सचिुच पूरे 21 वर्फ के हो गये...ये सुनना ही एक िुबारक जश्न जैसा लगता था. हाीं, आप बामलग जो हो गए ! !SKV
  6. 6. और जब तक आप 30 की कतार िें पींहुचे.. अरे ये क्या...खटास की गींध आने लगी.. आपके चाहने वालों के अलावा ऐसे भी मिले जो उनका बस चलता तो आपकी हस्ती ही मिटा के रख देते... कहााँ क्या गड़बड़ हो गयी? SKV
  7. 7. तो आप हुए 21 के , कर्र 30 के , और अचानक पता चला कक 40 पार कर 50 छू रहे हैं..अरे ब्रेक लगाओ भाई... अभी तो जजया ही क्या कक उिर तो कर्सलने लगी.. सपने खोने लगे... SKV
  8. 8. और लो! आपको लगता भी नहीीं था कक कभी आप 60 के भी हो जाएाँगे, पर हो ही गए! पता नहीीं कौन कौन अब क्या क्या कहेंगे...सदठयाना सचिुच शुरू हो गया क्या? SKV
  9. 9. तो िुद्दा ये कक आप 21 के जवान हुए, 30वाीं भी लगा, धक्का लगा चामलसे िें, 50 िें पहुींचे और 60 के भी हो गए.. SKV
  10. 10. और आपने तो ऐसी गतत पकड़ी कक शायद 70 को भी छू मलया हो! और यों एक एक ददन कर के आज तक पहुाँच गए: Thursday, December 1, 2016! SKV
  11. 11. और ब आप अपने 80 की पायदान शुरू करते हैं- हर ददन का अपना एक पूरा क्रम:- नाश्ता, ददन का भो न...शाम की चाय..सोने का समय.. और सब कु छ तो खत्म नह ीं हो ाता.. 90 के दशक से तो मानो आप किर नयी शुरुआत करने लग ायीं “अभी तो मैं लसिा 92 का हुआ ह हूूँ.'SKV
  12. 12. और ककतना कु छ ववगचत्र सा घटना शुरू हो जाता है ..... अगर आप शतायु हो जाएाँ तो आप पुनः एक मशशु हो जाते हैं: “िैं तो (100 के ऊपर) 6 िहीने का ही हूाँ! “ SKV
  13. 13. तो जातनये, हिेशा जवान कै से रहें? 1. िालतू की गणनाएीं छोड़ द ज ए: उम्र, व न और कद की लम्बाई, मोटापा... अरे गोल माररये….. इनकी किक्र डॉक्टर को करने दें: आखखर वो ककस बात के पैसे लेता है! 2. लसिा खुशलम ा दोस्तों में रहें और खुश रहें: लसडी ी़ लोग आपको मायूस ह करेंगे SKV
  14. 14. 3. कु छ न कु छ सीखते रहें: सीखने की उम्र कभी खत्ि नहीीं होती.. कीं प्यूटर, बागवानी, कला कु छ भी... ददिाग को आलसी न बनाएाँ..खाली ददिाग शैतान का घर.. याने अलज़मियेर की बीिारी को बुलावा.. 4. और हाूँ, सीखने का मतलब म ेदार और आसान बातें.. खुद पे पहाड़ नह ीं लादें... SKV
  15. 15. 5. खूब हाँसें.. खुल के और जोरों से... इतना कक जजतना हाँसना चाहते हैं उतना तो साींस लेने िें ही जोर लगे... 6. आींसू भी जीवन िें आते रहते हैं. दुःख को सहना है, और अपने जीवन िें आगे बढ़ना है. अपने जीवन िें मसर्फ एक व्यजक्त हिेशा हिारा साथ तनभाता है, और वो हि खुद ही हैं. इसमलए, जब तक जीववत हो, जजन्दा रहो. जी रहे हो, तो जजींदा ददल रहो. SKV
  16. 16. 7. जजनको आप प्यार करते हैं उनके आसपास रहें.. पररवार, प्राणी, सींगीत,पौधे, आपके शौक.. कु छ भी. ... आपका घर ही आपका सवोत्ति आश्रय है. 8.अपने स्वास््य का आनींद लें: अच्छा है तो बनाए रखें, अजस्िर है तो सुधारें, अपने से न सींभलता हो तो उचचत सहायता स्वीकार करें ! SKV
  17. 17. 9. अपराध बोध से बचें: नैसचगाक सौंदया स्िल, तीिा, अन्य गाींव... शहर ... कह ीं भी ाएूँ पर ऐसी गह नह ीं हाीं अपराध बोध या ग्लातन के भाव उप ें. 10. और सिय सिय पर लोगों को यह िहसूस कराते रहें कक आप उनको चाहते हैं..हर अवसर पर उनको ऐसा लगे.. SKV
  18. 18. और याद रखें... जीवन का पैिाना साींसों की सींख्या नहीीं है... बजल्क चरि के वो क्षण हैं जो हिें दि साधने से िह्सूस होते हैं SKV
  19. 19. ये सब आपको कै सा लगा? और अच्छा लगने पर भी आपने ये आगे ककसी को नहीीं भी भेजा तो भी क्या... हााँ, ककसी जाने अनजाने को भेज कर शायद आप अनायास ही उसके जीवन िें खुमशयों के कु छ पलों की जगह बना दें...और साथ ही आपके जीवन का भी एक ददन धन्यता से पूर जाए...यही तो हि सबSKV
  20. 20. कर्र मिलेंगे !!! SKV

×