Se ha denunciado esta presentación.
Utilizamos tu perfil de LinkedIn y tus datos de actividad para personalizar los anuncios y mostrarte publicidad más relevante. Puedes cambiar tus preferencias de publicidad en cualquier momento.

Geography topic-shail-aur-khanij-(2 a)

4.493 visualizaciones

Publicado el

Geography topic-shail-aur-khanij-(2a)

Publicado en: Educación
  • Inicia sesión para ver los comentarios

Geography topic-shail-aur-khanij-(2 a)

  1. 1. शैल एवं खनिज भारत और ववश्व का भूगोल www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  2. 2. • भू-पपपटी का ऊपरी भाग स्थलमंडल का सबसे महत्वपूर्प भाग है। • ऊपरी 100 कक0 मी0 मोटी परत को स्थलमंडल कहते हैं। • धरातल से 16 कक0 मी0 की गहराई तक 95% भू-पपपटी शैलों की बनी हुई है। Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  3. 3. शैलों की पररभाषा • वैज्ञाननक भाषा में वे समस्त पदाथप जिनसे भू- पपपटी का ननमापर् हुआ है चाहे वे ग्रेनाइट की भााँनत कठोर हो या चीका , रोड़ी अथवा ममट्टी की भााँनत नरम एवं मुलायम हो , शैल कहलाते हैं। Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  4. 4. शैलों का वगीकरण उत्पत्ती के आधार पर शैलों को निम्ि तीि भागो मे बााँटा जाता हैैः • आग्नेय शैल • अवसादी अथवा तलछटी शैल • रूपान्तररत अथवा कायान्तररत शैल Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  5. 5. • आग्नेय शैलों को मूल शैल कहा िाता है क्योकक अन्य सभी शैलों का ननमापर् इन्ही शैलों से होता है। • भूगभप से ननकलने वाले मैग्मा के रासायननक ववभेदन के अधार पर दो प्रकार की आग्नेय शैलें मानी िाती है। इनके नाम मैकिक तथा िजससक है | Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  6. 6. अवसादी शैलों का वगीकरण अवसादी शैलो का प्रथम स्तर का वगीकरर् खंडि एवं अखंडि वगों में ककया िाता है। • खंडि अवसादी शैलें • अखंडि अवसादी शैलें Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  7. 7. • कायांतररत शैलों का वगीकरर्: कायांतररत शैलों को दो मुख्य वगो मे बााँटा िाता है । इनके नाम हैं - (1) अपदलनी शैल तथा (2) पुनः किस्टलीकृ त शैल । Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  8. 8. रूपांतररत शैलों के कु छ महत्वपूणण उदाहरण निम्िललखखत हैैः मौललक आग्िेय शैल कायांतररत शैल • अभ्रक मशस्ट • ग्रेनाइट नाइस • बबटूममना कोयला एन्थाा्रसाइट कोयला • ग्रेब्रो सरपेण्टाइन Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  9. 9. मौललक तलछटी शैल कायांतररत शैल • बलुआ पत्थर क्वाटपिाइट • चूना-पत्थर संगमरमर • शैल स्लेट • स्लेट िाइलाइट • कोयला हीरा Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  10. 10. खनिज • खननि प्राकृ नतक रूप मे पाया िाने वाला एक समांगी ठोस अिैव पदाथप है, जिसकी सुव्यवजस्थत आर्ववक संरचना तथा एक ननशा्चचत रासायननक संघटन है। • सभी खननिो का मूल स्रोत भूगभप की उष्र् मैग्मा है। • प्रत्येक खननि मे दो या दो से अचधक साधारर् रासायननक तत्व होते है। Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  11. 11. खनिज • लगभग 2,000 ववमभन्न खननिों में से के वल 12 सामान्य खननि है। िो पृथ्वी के सभी स्थानों पर पाए िाते है। • इन 12 खननिों को चट्टान बनाने वाले खननि कहते है सामान्य खननि 8 मुख्य तत्वो से बनते है । • भू -पपपटी के 87 % खननि मसलीके ट है। Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  12. 12. ऑिलाइि कोच ंग के बारे में अचधक जािकारी के ललए यहां क्ललक करें http://iasexamportal.com/civilservices/courses/ias-pre/csat- paper-1-hindi हार्ण कॉपी में सामान्य अध्ययि प्रारंलभक परीक्षा (स्टर्ी ककट - पेपर - 1 (Paper - 1) खरीदिे के ललए यहां क्ललक करें http://iasexamportal.com/civilservices/study-kit/ias-pre/csat- paper-1-hindi Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  13. 13. IASEXAMPORTAL Other Online Courses Online Course for Civil Services Preliminary Examination  सीसैट (CSAT) प्रारंमभक परीक्षा के मलए ऑनलाइन कोचचंग (पेपर - 2)  Online Coaching for CSAT Paper - 1 (GS)  Online Coaching for CSAT Paper - 2 (CSAT) Online Course for Civil Services Mains Examination General Studies Mains (NEW PATTERN - Paper 2,3,4,5) Public Administration for Mains For Know More Click Here: http://iasexamportal.com/civilservices/courses Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM

×