Se ha denunciado esta presentación.
Se está descargando tu SlideShare. ×

तेरा वादा

Anuncio
Anuncio
Anuncio
Anuncio
Anuncio
Anuncio
Anuncio
Anuncio
Anuncio
Anuncio
Anuncio
Anuncio
Cargando en…3
×

Eche un vistazo a continuación

1 de 3 Anuncio
Anuncio

Más Contenido Relacionado

Más de Balaji Sharma (20)

Anuncio

तेरा वादा

  1. 1. तेरा वादा ? ! – नमस्ते / प्रणाम - श्रीमती शान्ता शमाा प्रकृ तत-तनयम :- हर बार आता है आमों का मौसम | हर बार आता है अनारों का मौसम | हर बार आता है अंगूरों का मौसम | हर बार आता है अमरूदों का मौसम | हर बार आता है कटहलों का मौसम | हर बार आता है संतरों का मौसम | हर बार आता है सब फलों का मौसम | हर बार आता है ववववध फू लों का मौसम | ऋतु-चक्र :- हर साल आता है वसन्त का मौसम | हर साल आता है ग्रीष्म का मौसम | हर साल आता है वर्ाा का मौसम | हर साल आता है शरद का मौसम | हर साल आता है हेमन्त का मौसम | हर साल आता है शशशशर का मौसम |
  2. 2. इनके भी – वक्त-बेवक्त आता है मच्छरों का मौसम | चाहे जब आता है मक्क्ियों का मौसम | ऐसे ही आता है झींगुरों का मौसम | सदा ही रहता है ततलचटों का मौसम | हर समय बना रहता है तछपकशलयों का मौसम | सभी जीवों का होता है अपना-2 मौसम | पर कभी – क्या आता है ईमानदारी का मौसम ? क्या आता है मानशसक तनमालता का मौसम ? क्या आता है सही अर्थों में सेवा का मौसम ? क्या आता है स्वार्थाहीन आदर का मौसम ? क्या आता है ककये काम का नाम लेने का मौसम ? क्या आता है सच्चे शुक्रगुज़ारों की भरमार का मौसम ? तेरा वादा – हे कृ ष्ण कन्हैया! कहा र्था तूने, ज़रा याद कर | जब-जब धमा लड़्िड़ाने लगता धूशमल हो कर, तब-तब आएगा उभारने, सँभालने संसार | अब आ गया समय, इहलोक हो गया जजार |
  3. 3. तेरा इंतज़ार है, आकर अन्याय शमटाकर, जन-जीवन को कर दे शाक्न्त-संस्कार से भरपूर ||

×